खबरें बिहार

गोपी धनवत कांड पर भूमिहार ब्राह्मण समाजिक फ्रंट ने दूसरी बार आई जी से मिलकर मांगा न्याय

–घटना के 3 सप्ताह बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर फ्रंट ने जताया आक्रोश
–गुरुवार को घटनास्थल पर स्वयं जाएंगे आईजी , प्रतिनिधिमंडल को दिया आश्वासन
मुजफ्फरपुर (जनमन भारत संवाददाता)। गोपी धनवत  कांड में  न्याय की मांग को लेकर बुधवार को दूसरी बार आईजी से मिला भूमिहार ब्राह्मण समाजिक फ्रंट का प्रतिनिधिमंडल । घटना के 3 सप्ताह बाद भी पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिलने पर जताया आक्रोश। फ्रंट के नेताओं ने आईजी से कहा आप स्वयं घटना स्थल पर पहुंचकर जांच कीजिए, निश्चित हमें न्याय मिलेगा। आईजी ने मौके पर उपस्थित सरैया के एसडीपीओ से केस की अद्यतन जानकारी ली एवं गुरुवार को स्वयं घटनास्थल पर जाने की बात कही। साथ ही आईजी ने इस इस मामले को शीघ्र सुलझाने हेतु सरैया एसडीपीओ को दिया कई निर्देश ।
                मौके पर फ्रंट के नेताओं ने इस मामले मे घटना के 3 सप्ताह बाद भी स्थानीय पुलिस की चुप्पी पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया । कहां कि स्थानीय पुलिस पीड़ित परिवार को न्याय देने में पूरी तरह विफल साबित हुई है। इस अवसर पर फ्रंट के नेताओं ने जिले के करजा, मोतिपुर एवं लालगंज थाने से संबंधित तीन गंभीर मामलों में पुलिस की लापरवाही से आईजी को अवगत कराया। साथी ही इस गंभीर मामलों में त्वरित कार्रवाई की मांग की। मौके पर आईजी के द्वारा मामले की गंभीरता को देखते हुए संबंधित पुलिस पदाधिकारी को आवश्यक निर्देश दिया गया। आई जी से मिलने के बाद फ्रंट के कार्यकारी अध्यक्ष पूर्व मंत्री अजीत कुमार ने कहा कि हम आईजी के अगले कदम का इंतजार करेंगे।  यदि आई जी से भी न्याय नहीं मिला तो हम सड़क पर लड़ने को तैयार हैं । फ्रंट इस मामले को काफी गंभीरता से लिया है। हम हर हालत में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाकर दम लेंगे ।
               आई जी से मिलने गए प्रतिनिधि मंडल में फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश शर्मा , पूर्व मंत्री अजीत कुमार , पूर्व विधायक शत्रुघ्न तिवारी उर्फ चोकर बाबा,  महामंत्री धर्मवीर शुक्ला, जिला अध्यक्ष अरुण कुमार सिंह, पीएन सिंह आजाद, रणधीर कुमार सिंह,शांतनु सत्यम तिवारी, संजय ठाकुर फौजी, पप्पू सिंह,प्रकाश कुमार, कादंबिनी ठाकुर,  संध्या सिंह,सोनू कुमार, निखिल कुमार, अभिषेक कुमार, शिवेशवर शर्मा, शंभू जी आदि प्रमुख थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.