खबरें बिहार

बियाडा की उद्योग नीती, काला कानून एवं दमनकारी इंस्पेक्टर राज्य के विरोध में अनिश्चितकालीन धरना के तीसरे दिन उद्यमियों के साथ साथ अन्य संगठनों के पदाधिकारी भी बैठे रहे

मुजफ्फरपुर (जनमन भारत संवाददाता)। उत्तर बिहार उद्यमी संघ द्वारा बीते 26 जुलाई से आयोजित शांतिपूर्ण धरना में बिहार इंडस्ट्रीज असोसिएशन, नॉर्थ बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स एवं लघु उद्योग भारती के साथ कई सामाजिक, शैक्षणिक, सांस्कृतिक संस्थाओं द्वारा समर्थित बियाडा की उद्योग नीती, काला कानून एवं दमनकारी इंस्पेक्टर राज्य के विरोध में अनिश्चितकालीन धरना के तीसरे दिन उद्यमियों के साथ साथ अन्य संगठनों के पदाधिकारी भी निरंतर बैठे रहे।
उत्तर बिहार उद्यमी संघ के अध्यक्ष ने बताया कि संघ बिहार में उद्योग, जो सभी सामाजिक शैक्षणिक सांस्कृतिक एवं अन्य विकास के रीढ़ की हड्डी है, के सर्वांगीण विकास के लिए कटिबद्ध है।किंतु बियाडा द्वारा लगातार दिए जाने वाले तानाशाही नोटिस फरमान का विरोध करती है।त्रस्त, आहत एवं बीमार उद्यमियों एवं उद्योग के भू आवंटन एवं जमीन पुनः कब्जा करके एवं समस्त उनकी संपत्ति जब्त करने के काले आदेश का यह पुरज़ोर विरोध करती है। उन्होंने बताया कि यदि चार बिंदुओं पर यदि बियाडा भू अधिग्रहण करती है उद्यमी संघ भी उसके साथ है किंतु मनमाने ढंग से यह कार्य नहीं होना चाहिए।
सर्वप्रथम जो आबंटित भूमि लंबे वर्षों से कोई क्रिया कलाप नहीं कर रही है उसे रद्द कर दिया जाए एवं उसका तत्काल अधिग्रहण कर लिया जाए।
दूसरी बात जो उद्यमी स्वेच्छा से एग्जिट पॉलिसी के तहत जमीन अथवा विकसित भूमि सरेंडर करना चाह रहे हो उन्हें सम्मानजनक तरीके से वर्तमान वास्तविक मूल्यांकन के आधार पर उसका लाभ देते हुए उनके जमीन को अधिग्रहीत किया जाए।
 तीसरी बात यदि ऐमनेस्टी पॉलिसी के तहत जो भी उद्यमी आएं वे अपना कॉन्ट्रैक्ट सफलतापूर्वक पूरा नहीं कर पाए उन्हें सहानुभूति पूर्ण तरीके से देखने की जरूरत है उन की दो अवस्थाएं हो सकती है या तो वे सिख इंडस्ट्री के रूप में सहायता की अपेक्षा रखते हों तो उन्हें मदद की जाए अथवा वे पुनः एग्जिट पॉलिसी में जाना चाहते हो तो उन्हें सम्मानजनक तरीके से उनका वार्ता वर्तमान वास्तविक आर्थिक मूल्यांकन कर उचित दाम देकर उनके जमीन को अधिग्रहीत किया जाए।
 चौथी और आखिरी बातजो उद्यमी कोई भी अवैधानिक उत्पादनअथवा क्रिया कलाप में लगे हैंउनकी भूमि को तत्काल प्रभाव से जब्त करते हुए उन पर उचित विधि सम्मत कार्रवाई की जाए।
उत्तर बिहार उद्यमी संघ बिहार में उद्योगों के सर्वांगीण विकास के लिए कटिबद्ध है और हमारे उद्यमी भाई उद्योग जगत की स् थापना बिहार में तब से कर रहे हैं जब यहाँउद्योग के क्षेत्र में कुछ न था केवल जंगल था जंगलराज था। उत्तर बिहार उद्यमी संघ का यह धरना कार्यक्रम अनिश्चितकालीन अपनी मांगों के साथ अडिग है जो एक लोकतांत्रिक एवं संवैधानिक अधिकार है और हम लोग विधिसंवत  बिहार के औद्योगिक विकास के लिए कटिबद्ध है। हमारा एक ही नारा है, उद्यमियों का साथ सबका विकास।
धरना कार्यक्रम स्थल पर कोविड 19 का बूस्टर डोज एवं 12 से 14 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण भी किया गया।
उक्त अवसर पर कोषाध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष नितिन बंसल बिहार इंडस्ट्रीज असोसिएशन के उपाध्यक्ष भरत अग्रवाल, नॉर्थ बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्रीज के उद्योग क्षेत्र के चेयरमैन श्याम सुंदर भीमसरिया समेत चितरंजन प्रसाद, जे.पी.सिन्हा, लाल बाबू प्रसाद, कृष्ण मुरारी प्रसाद, राजू राय,  शशांक श्रीवास्तव, दयाशंकर प्रसाद, मनोज कुमार चौधरी, शत्रुजित कुमार, तारा शंकर प्रसाद, पुष्कर, कुंदन झा, भारतभूषण, त्रिवेणी चौधरी,  राजू राय, विनीत अग्रवाल, सुरेश खेतान, संजीव साहू, राजू मेहता, प्रकाश कुमार, अशोक सिन्हा, महिला उद्यमी रेखा बिहानी, आभा कुमारी चौधरी, सतीश कुमार स्वामी , तारा शंकर प्रसाद, मनोज चौधरी आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.