खबरें बिहार

मुजफ्फरपुर टॉक में जुटे बुद्धिजीवी, पत्रकार, चिंतक और राजनेता

मुजफ्फरपुर (जनमन भारत संवाददाता)। मिशन भारती रिसर्च इंफॉर्मेशन सेंटर एवं बिहार गुरु के तत्वावधान में मुजफ्फरपुर के एक बैंकट हॉल में मुजफ्फरपुर टॉक का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन पूर्व सांसद जहानाबाद डॉ अरुण कुमार, रितु जायसवाल, उपमहापौर मानमर्दन शुक्ला, भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार, रविंद्र प्रसाद सिंह, विवेक कुमार अजय अलमस्त डॉ संजय पंकज अविनाश तिरंगा उर्फ ऑक्सीजन बाबा आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित करके किया। अपने उद्घाटन संबोधन में डॉ अरुण कुमार ने कहा कि आज शिक्षा और शिक्षकों का जो अमूल्यन हुआ है इसके लिए समाज और सरकार को सचेत होने की जरूरत है। मुजफ्फरपुर सांस्कृतिक और राजनीतिक रूप से एक महत्वपूर्ण जिला है और इसकी वर्तमान जो भौगोलिक स्थिति है इसके लिए यहां के नागरिकों, प्रशासन और राजनेताओं को बढ़ चढ़कर संवेदनशीलता के साथ पहल करने की जरूरत है। इससे पहले विषय प्रस्तावना के क्रम में आयोजन के अध्यक्ष साहित्यकार डॉ संजय पंकज ने कहा कि स्मार्ट सिटी होता हुआ  मुजफ्फरपुर जिस त्रासद स्थिति से गुजर रहा है वह बहुत ही दयनीय है। सच तो यह है कि नगर निगम के अंतर्गत जिस तरह की उठापटक होती रही है वैसे में जिनमें कार्य करने की क्षमता है वह भी कार्य करने में असमर्थ रहे। आज शहर की जो नारकीय स्थिति है इसके लिए आखिर जिम्मेदार कौन है और इसकी जिम्मेवारी हमें पूरी नैतिकता से उठाने की जरूरत है और आनेवाले नगर निगम चुनाव में इस शहर तथा यहां के नागरिकों के साथ अंतरंग होते हुए ईमानदारी, निष्ठा और संकल्प के साथ काम करने की दृढ़ता दिखानी होगी। पूर्व नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि इस शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए मैंने इमानदारी से प्रयास किया मगर नगर निगम में अनावश्यक हस्तक्षेप, भ्रष्टाचार और विकास के प्रति उदासीन रवैया के कारण इस शहर की स्थिति लगातार बिगड़ती रही और जनता में स्वाभाविक रूप से आक्रोश पैदा हुआ। आज भी जल निकासी के लिए किसी ठोस योजना पर काम नहीं किया जा रहा है जिसका परिणाम बहुत सुखद नहीं होगा।
स्वागत संबोधन में बिहार गुरु और मिशन भारती के अध्यक्ष अविनाश तिरंगा उर्फ ऑक्सीजन बाबा ने कहा कि हमारा प्रयास है कि एक स्वस्थ संवाद बनाया जाए ताकि हम शहर के विकास में सबको सहभागी बना सकें। भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार ने कहा कि जात पात से ऊपर उठकर जब तक हम स्वच्छ छवि के कर्मठ नेतृत्व का चुनाव नहीं करेंगे समस्या बनी रहेगी। महापौर राकेश कुमार ने कहा कि मुझे बहुत कम समय मिला फिर भी मेरी कोशिश है कि मैं बेहतर कर सकूं। उपमहापौर मानमर्दन शुक्ला ने कहा कि जनता के सहयोग के बिना समग्र विकास संभव नहीं है। जनता को भी नैतिक जिम्मेवारी लेनी पड़ेगी। प्रशासन और सरकार की योजनाओं में स्थानीय स्तर पर नगर निगम से भी संवाद करने की जरूरत है जिसका आज अभाव है। पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष चंदा देवी ने राजनीतिक दुराचरण का संकेत करते हुए बताया के मेयर और उप मेयर का चुनाव किस तरह से किया जाता है यह किसी से छिपा हुआ नहीं है। हमें नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मुजफ्फरपुर के प्रति संवेदनशील और इमानदार होने की प्राथमिक जरूरत है। डॉ एच एन भारद्वाज ने कहा कि ग्रेटर मुजफ्फरपुर बनाने पर ध्यान दिया जाना चाहिए था। पूर्व महापौर सुरेश कुमार ने कहा के मैं जनता के साथ हूं और उसके भरोसे पर जो महापौर खरा नहीं उतरते हैं तो उन्हें सार्वजनिक रूप से कटघरे में जरूर खड़ा किया जाना चाहिए। पूर्व मेयर विवेक कुमार ने कहा कि जनता और नगर निगम के बीच पारदर्शिता आवश्यक है। रविंद्र प्रसाद सिंह, संजय केजरीवाल, राजीव कुमार पंकु, शंभूनाथ चौबे, राजेश चौधरी पूर्व विधान पार्षद अजय अलमस्त,प्रभात कुमार, डॉ रंजना सरकार आदि ने अपने महत्वपूर्ण विचारों के क्रम में कहा कि मुजफ्फरपुर भाईचारे का ऐसा शहर है जिस के समग्र विकास से यहां के गौरव को भी पूरे देश में सम्मानित किया जा सकता है।  नहीं आए विधायक विजेंद्र चौधरी, लोगों में दिखा आक्रोश और लोग करते रहे तब भी इंतजार क्योंकि नगर निगम के राजनीति में उनके हस्तक्षेप और उनकी भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है।
समारोह में युवा आइकॉन ऑफ मुजफ्फरपुर के अंतर्गत डॉ विमोहन, डॉ आतीश कुमार, डॉ गौरव वर्मा, डॉ नवीन कुमार, डॉ एके दास, डॉ प्राची सिंह, डॉ प्रवीण आनंद, राजीव रंजन, समाजसेवी पवन सिंह, एन नाज ओजैर, इंजीनियर रत्नेश कुमार ठाकुर, सुमित कुमार, पंकज पटवारी, रत्नेश भारद्वाज, अन्नू सिंह, अंकित भारद्वाज, ऋतुराज, एलिस स्विफ्ट, अंकित ठाकुर, सोनू सिंह, दीपक ठाकुर, बसंत सिंह राजपूत, रामकुमार, डॉ विजयेश कुमार आदि 25 अपने अपने क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम करने वाले सामाजिक संवेदनशीलता के युवा व्यक्तित्वों का सम्मान स्मृति चिह्न तथा प्रेम उपहार देकर किया गया। समारोह में सैकड़ों लोगों की उपस्थिति रही जिसमें राजेश चौधरी, कुमार विभूति, केशव कुमार चौबे, प्रमोद आजाद, पंडित विनय पाठक, डॉ संगीता शाही, कुमार विरल आदि प्रमुख थे। धन्यवाद ज्ञापन समाजसेवी मुकेश त्रिपाठी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.