खबरें बिहार

अपने हक के लिए अनशन पर बैठे प्रदेश के मोबाइल दुकानदार

–विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों के माध्यम से चीनी ओप्पो ब्रांड की नई के सीरिज़ की ऑनलाइन बिक्री से परेशान
–भारतीय विक्रेताओं को इस रिटेल व्यापार से पूर्णत: निष्काशित करने की कंपनी की विश्वासघाती साजिश के विरोध में रिटेल मोबाइल विक्रेताओं की 27 अप्रैल को देशव्यापी भूख हड़ताल
–मुजफ्फरपुर, बिहार के तिरुपति कांपलेक्स आमगोला  रोड ओप्पो क्षेत्रीय कार्यालय के बाहर मोबाइल दुकानदारों का भूख हड़ताल
मुजफ्फरपुर। सात साल पहले भारत में प्रवेश करने वाली चीनी ओप्पो मोबाईल कंपनी को देश भर के खुदरा विक्रेताओं द्वारा देश का नंबर एक मोबाइल ब्रांड बनाया गया लेकिन अब ओप्पो ने खुदरा विक्रेताओं पर ज़्यादती करते हुये अपने नए के सीरीज स्मार्टफोन को सीधे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर भारी छूट पर इरादतन उपलब्ध कराया गया नतीजतन, लाखों खुदरा मोबाइल विक्रेताओं के विस्थापित होने की संभावना हो गई है। स्थिति डरावनी है मोबाइल रिटेलर्स आक्रामक हो गए हैं, बार-बार मना करने के बावजूद भी कंपनियों को विरोध का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि चीनी कंपनियां केंद्र सरकार के सभी नियमों की अवहेलना कर अनुचित व्यापार कर रही हैं। ऑल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन बिहार प्रदेश के सभी कार्यकर्ता जोश और खरोश के साथ ही सुबह 10:00 बजे से धरना स्थल पर बैठे नजर आए आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर भागलपुर और पटना में लोगों ने अपना विरोध स्वर बहुत ऊंचा रखा कंपनियों के विरुद्ध विरोधी नारे लगाए वहीं ऑप्पो कंपनियों के अधिकारियों के पसीने छूटते नजर आए प्रदेश के अधिकारियों ने बताया कि अगर उनकी मांगे समय पर नहीं मांगी जाएगी तो ओप्पो कंपनी के नेशनल हेड का पुतला भी चौक पर फूंका जाएगा
भारत में लॉन्चिंग से अब तक ओप्पो की सफलता में पारम्परिक रिटेलर्स की अहम भूमिका रही है! ओप्पो मोबाइल को ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए जरूरी प्रमोशन किया। उनके प्रतिनिधियों को खुदरा विक्रेताओं द्वारा उनके काउंटरों पर जगह दी गई। उन्होंने बड़े डिस्प्ले के साथ ओप्पो को प्राथमिकता दी। उस समय, कंपनी ने खुदरा विक्रेताओं को आश्वासन दिया था कि हमारी हमेशा प्राथमिकता रिटेलर्स को होगी। अब जबकि यह ऑप्पो एक ब्रांड बन चुका है, मौक़ापरस्त ओप्पो ने अपनी नीतियों में बदलाव कर रिटेलर्स को धोखा दिया है। के सीरीज के स्मार्टफोन कंपनी द्वारा केवल ऑनलाइन बिक्री के लिए उपलब्ध है। इससे उपभोक्ताओं को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। भारत में उपभोक्ता विश्वसनीय सेवाएं चाहते हैं जो केवल खुदरा विक्रेता ही दे सकते हैं। ऐसे में वे भरोसे के साथ नजदीकी रिटेलर के पास आते हैं। हालांकि, ओप्पो जैसी चीनी कंपनी नए स्मार्टफोन को केवल ऑनलाइन उपलब्ध कराने की नीति अपना रही है। विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को सामान सौंपकर भारतीय खुदरा विक्रेताओं को धोखा देने की साजिश को विफल करने के लिए खुदरा विक्रेताओं ने कदम बढ़ाया है। भूख हड़ताल के दौरान कम से कम 80 प्रतिशत नए के सीरीज स्मार्टफोन मेनलाइन खुदरा विक्रेताओं को उपलब्ध कराए जाएं ऐसी मांग की जा रही है।
बिहार उपाध्यक्ष मोहम्मद दिलशाद, मुजफ्फरपुर जनरल सेक्रेटरी अजय चंद चौधरी, मुजफ्फरपुर उपाध्यक्ष निहाल अहमद, मुजफ्फरपुर उपाध्यक्ष राजेश कुमार, कोर मेंबर इरशाद आलम, राजकुमार, मनीष चौधरी उर्फ संजय, मनीष कुमार, चंदन कुमार, महताब आलम और बहुत सारे सम्मानित मोबाइल व्यापारी भाई उपस्थिति में संगठन ने यह भी चेतावनी दी कि अगर ओप्पो ने भूख हड़ताल से भी उचित कार्रवाई नहीं की, तो  अधिक आक्रामक तरीके से जवाबी कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.