खबरें बिहार

शराब के कारोबार पर खड़ी नीतीश सरकार: पूर्व सांसद अरुण कुमार सिंह

मुजफ्फरपुर (जनमन भारत संवाददाता)। शराब के कारोबार पर खड़ी नीतीश सरकार को बचाने के लिए उसकी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी सिर्फ बयानों की झड़ी लगा रही है। खुद उनके घर जहरीली शराब पीने के कारण कई जान गई है। बिहार में शराबबंदी के नाम पर मौत का तांडव किया जा रहा है और सरकार को अवैध रूप से 12 सौ करोड़ रुपए की कमाई हो रही है। ऐसे में सरकार के लिए शराबबंदी सरकार के लिए मोटी कमाई का जरिया बन गई हैं। उक्त बातें पूर्व सांसद अरुण कुमार सिंह ने पताही स्थित राकेश पांडे के आवास पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहीं।

वहीं उन्होंने उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर कहा कि सभी के चेहरे बता रहे हैं कि आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की स्थिति क्या होने वाली है। जहां तक उत्तर प्रदेश में जदयू भाजपा गठबंधन की बात है, तो जदयू ने पहले भी वहां अपनी किस्मत आजमाई थी और नतीजा भी दिखा था। अभी जो बातें सामने आ रही है, वह बिल्कुल हास्यास्पद है। बाद बाकी उनका गठबंधन है, वह अपने हिसाब से अपनी रणनीति बनाएंगे।

जहां तक बिहार में गठबंधन के टूटने का सवाल है, तो यह सिर्फ नीतीश कुमार को बचाने का खेल चल रहा है। क्योंकि शराबबंदी के बाद बिहार में जहरीली शराब पीने से मौतों की संख्या की गिनती नहीं की जा सकती है। ऐसे में अपने सहयोगी दल भाजपा द्वारा आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलाकर जनता का ध्यान भटकाना चाहते हैं। गौरतलब है कि हाल में ही उन्होंने अपनी पार्टी भारतीय सब लोग पार्टी के विलय के बारे में कहा कि चिराग पासवान अपनी पार्टी लोजपा (चिराग गट) को अपने पिता रामविलास पासवान से भी आगे लेकर जाएंगे। उनकी राजनीतिक सोच बहुत बड़ी है।आने वाले दिनों में उनका भविष्य एक सितारे की तरह है, जो हमेशा बिहार के दृष्टि पटल पर चमकेगा। बिहार में एक विकल्प के रूप में चिराग पासवान आए हैं जो जनता के हितों को ध्यान में रखकर काम कर रहे हैं ऐसे में आने वाले बिहार की कमान चिराग पासवान के हाथों में होगी। इससे कोई इनकार नहीं कर सकता। इस दौरान अजय कुमार अलमस्त, शशि कुमार सिंह, अमर बाबू, दिनेश सहनी, चुलबुल शाही, सेवानिवृत्त सैनिक संजय कुमार, मनीष कुमार समेत कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.